मेरी प्रेरणा: #TheMuse

DSCF0411

मेरी  जीवनसाथी  मेरी  प्रेरणा…

न  जाने  किस  राह  की  तलाश  है,

न  जाने  कौनसी  मंज़िल  की  आस  है,

यूँ  तो  खुला  आसमान  है  पंख  फैलाने  को,

पर  जाने  क्यूँ  न  ऊचाईयों  में  अजनबी  सा  अहसास  है,

हर  शिखर  को  जीत  लेने  का  इस  मन  में  विश्वास  है,

जीने  लगे  हर  एक  सपना, रब  से  यही  बस  अरदास  है,

ऐसे  में  दोगुनी  हो  जाए  हर  ख़ुशी,

गर  उनकी  धड़कन  इस  दिल  के  पास  है,

के  उनसे  ही  महकती  है  ये  कलम,

और  उनसे  ही  शब्दों  में  मिठास  है,

है  उनसे  ही  विचारणा  और  वो  ही  मेरी  प्रेरणा,

और  उनसे  ही  लिखने  की  मुझे  प्यास  है,

वो  हैं  तो  हैं  काव्य  मेरे,

उनसे  ही  मेरे  अल्फ़ाज़  हैं,

उन  बिन  जैसे  मैं  कुछ  भी  नहीं,

के  हँसती  उनकी  कुछ  ख़ास  है,

हँसती  उनकी  कुछ  ख़ास  है…

***

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by BlogAdda. This week’s WOW prompt is – ‘The Muse’.

wowbadge

महकते जज़्बात…(5)


Indian Bloggers

DSCF0482

इस  दिल  से  उठती  ख़ुश्बू  के  कुछ  और  कतरे  आपकी  नज़र  करता  हूँ…

भाग ५


वो   कहते   हैं   तू   ख़याल   है   बस ,

इस   पागल   दिल   का   फ़ितूर   है   तू ;

पर   ज़िंदा   हूँ   मैं…खुद   सुबूत   है   ये ,

के   शायद   कहीं   ज़रूर   है   तू ||

♥ ♥ ♥

तेरे   ख़यालों   में   ऐसा   डूबा,

जैसे   वर्षा   घनघोर   हुई ;

जाने   कब   बीती   रात ,

और   जाने   कब   भोर   हुई ||

♥ ♥ ♥

ख्वाबों   के   इस   वीराने   में ,  

 क्या   खूब   हरियाली   छाई   है ;

के   ढूंड   रहे   थे   हम   अल्फाज़ों   को ,  

और…खुद   ग़ज़ल   ही   चली   आई   है ||

♥ ♥ ♥

Love  is  in  the  air…Its  February…