ख्वाबों की कीमत: #If Money Disappeared

Indian Bloggers

wp_08

कभी  मिलती  नहीं  मंज़िल, तो  कभी  राहें  रूठ  जाती  हैं,
के  इन  सिक्कों  के  बोझ  तले, ख्वाहिशें  टूट  जाती  हैं;

ख़्वाब  अक्सर  अधूरे  रह  जाया  करते  हैं,
के  खर्चा  बहुत  हो  जाता  है, मंज़िलों  को  पाने  में;

सुनहरे  ये  सपने  खरीदे  गर  जाते  हौसलों  से,
रंग  कुछ  और  ही  होता,  कामयाबी  के  इंद्रधनुशों   का;

ए  ख़ुदा  अदा  करना  हर  उस  दिल  की  दुआ,
जिसमें  तुझे  अक्स  अपना  दिखाई  दे ||

***

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by BlogAdda. This weekend’s WOW prompt is- “If Money Disappeared”.

wowbadge

हँसते ज़ख़्म: #League of Lost Things

Indian Bloggers

IMG-20160508-WA0026

I have seen loss up close and it is something you wouldn’t wish even for your enemies. The tears I held back (at least attempted to) have found their way out through these couplets. I hope you can feel the connection:-


कभी  डूबते  का  सहारा  हुआ  करते  थे,

पर  अपनी  ही  कश्ती  में  शायद  छेद  था ;

सोचते  थे…मुट्ठी  में  सारा  जहाँ  लिए  बैठे  हैं,

जाने  कब  फिसल  गया  हाथों  से…वो  केवल  रेत  था ||

♥ ♥ ♥

इन  साँसों  की  बेशर्मी  पे  हैरां  हूँ ,

के  चलती  ही  रही… खुद  ज़िंदगी  को  खोकर ;

चुकाई  हर  हँसी  की  कीमत, घंटों  अंधेरों  में  रोकर ,

के  जाने  ये  वक़्त… हर  बार  कैसे  मात  दे  जाता  है ;

खुद  भी  जलकर  देख  लिया, पर  अंधेरा  लौट  ही  आता  है ||

♥ ♥ ♥

उन्हें  भूल  पाना  अब  मुमकिन  नहीं ,

के  ये  कोमल  एहसास  ही…साँसों  का  सहारा  बन  गया ;

साहिलों  से  नाता  टूटे  ज़माना  हो  चला,

के  उफनते  इस  सागर  में…ये  तिनका  ही  किनारा  बन गया ||

♥ ♥ ♥

छलक  जाए  ना  इस  दिल  से  कोई  ग़म , के  अक्सर  यूँही  हंस  लिया  करता  हूँ ;

 टूट  जाता  था  जिनपर  आँसुओं  का  बाँध ,उन  जज़्बात  को  कस  लिया  करता  हूँ ;

 के  ख़ौफ़  नहीं  अब  और  किसी  का , बस  फिर  से  मरने  से  डरता  हूँ ||

♥ ♥ ♥

आँसुओं  को  यूँ  बदनाम  न  कर,

के  मायूस  दिल  को  इन्हीं  से  क़रार  आता  है ;

पलकों  के  बाँध  तले  छुपाता  है  हर  ग़म,

और  छलक  भर  जायें…तो  दिल  हल्का  हो  जाता  है ||

♥ ♥ ♥

मुद्दतें  बीती  ख़ुशियों  की  चाह  में ,

के  हमने  ग़म  में  भी  मुस्कुराना  सीख  लिया  ;

मिला  ना  कांधा  भी  जब  इन  आँसुओं  को ,

हमने  ख़ुद  को  ही  मनाना  सीख  लिया ||

♥ ♥ ♥

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by BlogAdda. This week’s WOW prompt is – ‘League of Lost Things’.

Don’t forget to quote your favorite one. Your feedback is what keeps me going. Thank you:-)

wowbadge

मेरी कहानी: Me against Myself

Indian Bloggers

njou (1)

This is one of my best poems, the one closest to my heart…

पाँव  ज़मीं  पर  नहीं  मेरे,  

के  इन  बादलों  पे  सवार  हूँ  मैं, 

के  मैं  हूँ, और  मेरी  तन्हाई,

और  इस  ज़माने  के  पार  हूँ  मैं,

बेफ़िक्र  हूँ, बेखौफ़  हूँ,

के  मद्धम  जलती  अंगार  हूँ  मैं, 

मैं  किल्कारी, मैं  आँसू  भी,

के  दामन  से  छलकता  प्यार  हूँ  मैं,

मैं  मुश्किल  हूँ, मैं  आसां  भी,

कभी  जीत  हूँ  तो, कभी  हार  हूँ  मैं,

उलझनों  की  इस  कशमकश  में,

उमीदों  की  ललकार  हूँ  मैं,

लुत्फ़  उठा  रहा  हूँ, हर  मुश्किल  का,

के  भट्टी  में  तपती  तलवार  हूँ  मैं,

ये  लहरें  ये  तूफान, तुम्हें  मुबारक,

के  कश्ती  नहीं  मझधार  हूँ  मैं,

मैं  मद्धम  हूँ, मैं  कोमल  हूँ,

और  चीते  सी  रफ़्तार  हूँ  मैं, 

के  दर्दभरी  मैं  चीखें  हूँ,

और  घुँगरू  की  झनकार  हूँ  मैं,

मैं  निर्दयी  हूँ, मैं  ज़ालिम  हूँ ,

के  मुहब्बत  का  तलबगार  हूँ  मैं, 

मैं  शायर  हूँ, मैं  आशिक़  भी,

इस  प्रेम-प्रसंग  का  सार  हूँ  मैं,

तुम  मुझसे  हो, मैं  तुमसे  हूँ,

झुकते  नैनों  का  इक़रार  हूँ  मैं, 

मैं  गीत  भी  हूँ, मैं  कविता  भी,

के  छन्दो  में  छुपा, अलंकार  हूँ  मैं,

मैं  ये  भी  हूँ, मैं  वो  भी  हूँ,

के  सीमित  नहीं  अपार  हूँ  मैं, 

के  सीमित  नहीं  अपार  हूँ  मैं ||

                  ***

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by BlogAdda. This week’s WOW prompt is – ‘Me Against Myself’.

wowbadge

होली है…#khulkekheloholi

PicsArt_03-21-12.53.04

                Holi is a festival synonymous with frolic and fun. There are more memories of my childhood Holis than I care to remember. Each Holi seemed like a lifetime of jollification. The colors, the balloons, the sweets and finger licking homemade snacks and what not. Holi was more flamboyant and lively those days. Not caring about how I looked, how’s my hairs and my clothes made it even more fun. But things have changed now…I don’t know why or even how…may be it is the price we pay for growing up. Those days may or may not come back but I would certainly love to relive them. Here is a poem about all that I miss about Holis back then.


वो बचपन की होली…

याद  आते  हैं  वो  दिन, वो  लम्हे  वो  पलछिन,

वो  कच्ची  उमर, वो  मस्ती  बेफ़िकर,

वो  माँ  का  प्यार, वो  हर  दिन  त्योहार,

के  याद  आता  है  बचपन, वो  यादें  मन-मंथन;

याद  आती  है  होली, वो  मस्तानों  की  टोली,

वो  हर्ष  वो  उल्लास, वो  हफ़्तो  चलता  रास,

वो  शरारत  वो  सताना, कभी  हँसना  कभी  हँसाना,

के  याद  आता  है  होलिका-दहन, वो  करना  दुलेंडी  की  तैयारी  गहन;

याद  आती  है  वो  पिचकारी, वो  टब  मे  गिरने  की  बारी,

वो  पानी  वो  गुब्बारे, वो  छीटें  वो  फुहारें,

वो  खेल  वो  निशाना, वो  बेमतलब  ही  भिगाना,

के  याद  आते  हैं  वो  रंग, करना  वो  मस्ती  यारों  के  संग;

याद  आती  है  रंगों  की  बारिश, वो  छोड़  देने  की  गुज़ारिश,

वो  कीचड़  वो  गुलाल, वो  शिकायत  और  मम्मी  की  ढाल,

वो  कई-कई  बार  नहाना, और  फिर  से  रंग  लगाना,

के  याद  आता  है  वो  ठिठुरना, वो  रंगीन  पानी  में  उड़ना;

parachute-advansed-holi-blogadda-1

याद  आती  है  वो  गुजिया, वो  पकौड़े  वो  भजिया,

वो  मीठे  से  रसगुल्ले, वो  दही  में  डूबे  भल्ले,

वो  खाना  वो  खिलाना, वो  मनचाही  चीज़  दिलाना,

के  याद  आते  हैं  वो  त्योहार, वो  दोस्त  वो  रिश्तेदार;

याद  आते  हैं  वो  पक्के  रंग, वो  बच  निकलने  की  जंग,

वो  गली-गली  में  पहरे, वो  यारों  के  बेगाने  से  चेहरे,

वो  रंगी  हुई  दीवारें, वो  बचे  हुए  गुब्बारे,

के  याद  आती  है  बचपन  की  होली, वो  मस्ती  वो  हमजोली;

के  अब  कहाँ  रंगों  मे  वो  मिठास  है, त्योहार  वही  पर  अलग  लिबास  है,

लगाते  हैं  रंगों  का  टीका  भर, पर  दिलों  को  रंग  नही  पाते  हैं,

के  रौनक  बाज़ारों  में  कुछ  खास  है, पर  समय  ही  किसके  पास  है,

होली  को  अब  पर्व  नहीं  छुट्टी  बताते  हैं, जाने  क्यूँ  इस  दिन  को  बंद  दीवारों  में  मनाते  हैं;

के  याद  आती  है  बचपन  की  वो  होली, जिसे  करते  हैं  याद  पर  फिर  भूल  जाते  हैं,

के  बरसते  हैं  जब  यादों  के  ये  बादल, तभी  तो  जीवन  में  फूल  आते  हैं,

और  हर  साँस  को  महकाते  हैं… हर  साँस  को  महकाते  हैं…

***

I’m pledging to #KhulKeKheloHoli this year by sharing my Holi memories at BlogAdda in association with Parachute Advanced.

नारी शक्ति #KnowYourRights

Everyday is women’s day…Why should the ticking of clocks make any difference…Celebrate your greatness each day…Happy Women’s Day to all the lovely ladies out there…

doc2poet

WeavingThreads_247

मैं नारी हूँ मैं सबला हूँ, समरूप हूँ मैं पर हीन नहीं,

आकाश में उड़ना है मुझको, पर नसीब मुझे क्यूँ ज़मीन नहीं ;

इन आँसुओं पे ना जाना तुम,

के प्रगाढ़ हूँ मैं, गमगीन नहीं ;

दरकार नहीं सहारे की मुझे,

के शोषण से टकराए जो, बलवान वही-और वीर वही ;

बात इतनी सी है, गर समझ पाए कोई,

के  तुम मुझसे हो मैं तुमसे हूँ , और एकाकी हम फ़रदीन नहीं ;

एकाकी हम फ़रदीन नहीं…

I’m writing this blog post to support Amnesty International’s #KnowYourRights campaign at BlogAdda. You can also contribute to the cause by donating or spreading the word.

View original post