Wordy wednesday #4: #Happiness

Indian Bloggers

vaulted-cellar-247391_960_720

#Caption: Happiness is waiting for you behind these turns…

          We often give up our dreams and bow down to darkness blinded by the turns and bends while walking through the gloomy corridors of life…but we must realize that the ray of hope that we strive for is right behind that blind turn…so just keep moving and be positive…

” ख़्वाबों के बिखरे पन्नों में, ख़ुद को तलाश करता हूँ ;

मुश्किलों भरी इस दुनिया में, एक हम-साये  की अरदास करता हूँ ;

मुस्कुराने के दो पल मिल जाएँ कहीं, बस  एक बहाने की तलाश करता हूँ ;

के हार मिले या जीत इस राह में, बस खुशियों की आस करता हूँ || “

This post is written for Wordy Wednesday #4- February 2016 #PicturePrompt at Blog-A-Rhythm.

bar_ww_badege

पहला प्यार: #FirstCrush

DSCF0444

तकते  थे  राह  उनकी, के  यादों  की  कशमकश  में  यूँही  ग़ज़ल  बन  गयी,

इस  दिल  में  उठा  एक  ख़याल, और  मुश्किल  ख़ुद  हल  बन  गयी ||

मेरे पहले प्यार का बीज तब अंकुरित हुआ

जब उन्होंने पहली बार मेरे ख़्वाबों के दरवाज़े पर दस्तक दी,

उन ख़ूबसूरत पलों को शब्दों में कुछ इस तरह तराशा है…


पहला प्यार पहला एहसास 

ख़यालों ने  उनके  सताया  है  इस  क़दर,  के  राबता  हो  उनसे….तो  पूछेंगे  ज़रूर ,

के तराशा  है  तुम्हें  खुद  उस  ख़ुदा  ने,  या  हो  तुम  परी….या  कोई  हूर ;

है  तुमसे  ही  धड़कन  इस  दिल  की,  और  तुम्ही  से  इन  आँखों  का  नूर ,

के  मर  ही  मिटा  तुमपर, तो  इस  दिल  का  क्या  क़सूर ;

इस  दिल  ने  ही  दिखाई  अंधेरों  में , नज़रों  को  राहें  तमाम  हैं,

माना  हुई  है  इससे  ख़ता,   पर  क़ुबूल  हमें  भी  ये  ख़ूबसूरत  इल्ज़ाम  है ;

न  जाने  हुआ  ये  कैसे ,   के  एक   ही   झलक  में  दिल-ओ-जान  गवाँ  बैठे,

अजनबी  हुए  ख़ुद  से,  और  उन्हे  भगवान  बना  बैठे ;

जादू  चला  उनका  कुछ  इस  तरह , के  हम…रहे  नहीं  हम,

मिल  जाए  पर उनका   साथ  अगर ,   तो  ख़ुद  को  खोने  का  भी  न  हो  ग़म ;

के उनकी  नज़रों  में छलकती अपनी  तस्वीर  सा  नशा, किसी   पैमाने   में  कहाँ ,

के  मुहब्बत  की  इस  बेखुदी  सा   मज़ा, होश  में  आने  में  कहाँ ;

बयाँ  कर पाना मुम्किन नहीं ,  के   बीते  कैसे  बरसों… इन  नज़रों  की  तलाश  में,

ज़िंदा  होने  के  इल्ज़ाम  तले ,  चल थी  रही  साँसें…ज़िंदगी  की  आस  में ;

के  लौ  सी   तपती  धूप  में ,   राहत…शाम  में  हमने  पाई  है ,

गुज़र  गये  झुलस्ते  मंज़र,    के  जीवन  में  शब  लौट  आई  है ;

सजदा  करूँ  मैं  पल-पल  उनका,  जो  शख्सियत  ही  ख़ुदाया  है,

के   याकता  वो  हीर,    जिसने  इस  दिल  को  सजाया  है ;

इस  दिल  को  सजाया  है, हर पल को महकाया है ||


ये इस कविता का अंत नहीं, बल्कि इस प्रेम कहानी का आगाज़ है…

This post is written for Indispire Edition 101: First Crush is special. Isn’t it? It must have been on a teacher, an actor, a classmate, a friend, a neighbor or just a random stranger. Share the beautiful memories of your first crush with us.#firstcrush .

मेरी प्रेरणा: #TheMuse

DSCF0411

मेरी  जीवनसाथी  मेरी  प्रेरणा…

न  जाने  किस  राह  की  तलाश  है,

न  जाने  कौनसी  मंज़िल  की  आस  है,

यूँ  तो  खुला  आसमान  है  पंख  फैलाने  को,

पर  जाने  क्यूँ  न  ऊचाईयों  में  अजनबी  सा  अहसास  है,

हर  शिखर  को  जीत  लेने  का  इस  मन  में  विश्वास  है,

जीने  लगे  हर  एक  सपना, रब  से  यही  बस  अरदास  है,

ऐसे  में  दोगुनी  हो  जाए  हर  ख़ुशी,

गर  उनकी  धड़कन  इस  दिल  के  पास  है,

के  उनसे  ही  महकती  है  ये  कलम,

और  उनसे  ही  शब्दों  में  मिठास  है,

है  उनसे  ही  विचारणा  और  वो  ही  मेरी  प्रेरणा,

और  उनसे  ही  लिखने  की  मुझे  प्यास  है,

वो  हैं  तो  हैं  काव्य  मेरे,

उनसे  ही  मेरे  अल्फ़ाज़  हैं,

उन  बिन  जैसे  मैं  कुछ  भी  नहीं,

के  हँसती  उनकी  कुछ  ख़ास  है,

हँसती  उनकी  कुछ  ख़ास  है…

***

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by BlogAdda. This week’s WOW prompt is – ‘The Muse’.

wowbadge

महकते जज़्बात…(5)


Indian Bloggers

DSCF0482

इस  दिल  से  उठती  ख़ुश्बू  के  कुछ  और  कतरे  आपकी  नज़र  करता  हूँ…

भाग ५


वो   कहते   हैं   तू   ख़याल   है   बस ,

इस   पागल   दिल   का   फ़ितूर   है   तू ;

पर   ज़िंदा   हूँ   मैं…खुद   सुबूत   है   ये ,

के   शायद   कहीं   ज़रूर   है   तू ||

♥ ♥ ♥

तेरे   ख़यालों   में   ऐसा   डूबा,

जैसे   वर्षा   घनघोर   हुई ;

जाने   कब   बीती   रात ,

और   जाने   कब   भोर   हुई ||

♥ ♥ ♥

ख्वाबों   के   इस   वीराने   में ,  

 क्या   खूब   हरियाली   छाई   है ;

के   ढूंड   रहे   थे   हम   अल्फाज़ों   को ,  

और…खुद   ग़ज़ल   ही   चली   आई   है ||

♥ ♥ ♥

Love  is  in  the  air…Its  February…