सबक: #Lessonslearntin2015

 

Books shelf

The Lesson I learnt in 2015

उदासियों  की  वजह  तो  बहुत  हैं  ज़िंदगी  में,

पर  बेवजह  ख़ुश  रहने  का  मज़ा  ही  कुछ  और  है…


Because no matter how hard we try,

we are gonna miss a few milestones

But we must carry on and keep pace with time…


सबक…

आहिस्ता  चल  ए  ज़िन्दगी , के  क़र्ज़  कई  चुकाना  बाकी  है,

कुछ  दर्द  मिटाना  बाकी  है, कुछ  फ़र्ज़  निभाना  बाकी  है,

रफ़्तार  में  तेरे  चलने  से, कुछ  रूठ  गये – कुछ  छूट  गये,

उन  रूठों  को  मनाना  बाकी  है, रोतों  को  हँसाना  बाकी  है,

इन  साँसों  पर  हक़  है  जिनका, उनको  समझाना  बाकी  है,

कुछ  हसरतें  अभी  अधूरी  हैं, कुछ  काम  और  अभी   ज़रूरी  हैं,

ख़्वाहिशें  कुछ  घुट  गयी  इस  दिल  में, उनको  दफ़नाना  बाकी  है,

नई  ख्वाहिशें  जगाना  बाकी  है, कुछ  ख़्वाब  सजाना  बाकी  है,

कुछ  आँसू  हैं  तो  कुछ  ग़म  भी  हैं, उनको  हँसी  तले  दबाना  बाकी  है,

कहीं  मरहम  लगाना  बाकी  है, कुछ  ज़ख़्म  छिपाना  बाकी  है,

तू  आगे  चल  मैं  आता  हूँ, के  अभी  कदम  बढ़ाना  बाकी  है ,

कुछ  और  सबक  हैं  तेरे  दामन  में, उनसे  मिल  जाना  बाकी  है,

के  आहिस्ता  चल  ए  ज़िंदगी, कुछ  क़र्ज़  चुकाना  बाकी  है,

के  क़र्ज़  चुकाना  बाकी  है…

***

This post is written for Indispire Edition 98: What are the 5 Lessons 2015 has taught you? #Lessonslearntin2015.