#BlogchatterA2Z : H

You can see humor in anything and everything, if you have an eye for it. There’s humor even in tragedies. And love is the biggest tragedy of them all. It is so simple yet no one can easily understand. It lies in the small things that we do for each other and not in fancy flowers an gifts. Love is sublime, pure and fucks all.

Powered by #BlogchatterA2Z for Apr’21 and hosted by https://www.theblogchatter.com/

Couplets: #AtoZChallenge

Indian Bloggers

Cc

C

            Couplet is poetry in its simplest form. It is particularly close to my heart because that’s how I started writing, and I am glad I did. Poetry somehow filled the void I didn’t know ever existed. It’s like the seed of poetry was always there, the emotions and the motivation watered it and the sapling that emerged was a couplet.

The Concept: Couplets usually comprise two lines that rhyme and have the same metre. In a formal (or closed) couplet, each of the two lines is end-stopped, implying that there is a grammatical pause at the end of a line of the verse and in a run-on (or open) couplet, the meaning of the first line continues to the second.

              Good rhyming couplets tend to “explode” as both the rhyme and the idea come to a quick close in two lines. Here are some examples of rhyming couplets where the sense as well as the sound “rhymes”. Example:

True wit is nature to advantage dress’d;

What oft was thought, but ne’er so well express’d.

                                                      — Alexander Pope

                 images

 The amazing thing is that these couplets can be painted in any color, any emotion and they don’t mind. Here are a few shades of ink from my own diary:-

तेरा  नाम  लबों  से  गुज़रे  अरसा  हुआ,

पर  मुस्कुराहट  अभी  बाकी  है ;

कैसे  भुला  दूँ  तुझे  ए  हमनशीं ,

के  चाहत  अभी  बाकी  है ||

***

Original Posted at: https://doc2poet.wordpress.com/2015/09/07/couplet1/

लाख़  की  कोशिश  हमनें ,

के  ये  जज़्बात  इन  लफ़्ज़ों  में  समा  जायें ;

पर  इन  तन्हाइयों  में  वो  नूर  कहाँ,

के  रूठे  इन  अल्फ़ाज़  को  मना  पायें ||

***

Original Posted at: https://doc2poet.wordpress.com/2015/09/10/couplet2/

ये  तू  नहीं…तेरी  याद  है  बस,

अब  कौन  इस  दिल  को  समझाए ;

तेरी  जूसतजू  ने  शायर  किया,

 एक  झलक  जाने  क्या  कर  जाए ||

***

Original Posted at: https://doc2poet.wordpress.com/2015/09/18/couplet3/

तैरने  चले  थे  दरिया  में,

बीच  रस्ते  बरसात  हो  गयी,

के  ढूँढने  निकले  थे  ख़ुदा  को,

और  ख़ुद  से  मुलाक़ात  हो  गयी ||

***

Original Posted at: https://doc2poet.wordpress.com/2015/09/20/spirituality1/

इन  हाथों  की  लकीरों  में  तू  है,

या  तुझसे  ये  लकीरें,

तू  पास  नहीं…एहसास  है  बस,

और  धुंधली  तस्वीरें ||

***

Original Posted at: https://doc2poet.wordpress.com/2015/10/08/couplet4/

कभी  डूबते  का  सहारा  हुआ  करते  थे,

पर  अपनी  ही  कश्ती  में  शायद  छेद  था ;

सोचते  थे…की  मुट्ठी  में  सारा  जहाँ  लिए  बैठे  हैं,

जाने  कब  फिसल  गया  हाथों  से…वो  केवल  रेत  था ||

***

Original Posted at: https://doc2poet.wordpress.com/2015/10/12/loneliness1/

तेरे   ख़यालों   में   ऐसा   डूबा,

जैसे   वर्षा   घनघोर   हुई ;

जाने   कब   बीती   रात ,

और   जाने   कब   भोर   हुई ||

***

Original Posted at:  https://doc2poet.wordpress.com/2015/10/15/valentine5/

Ç

images (1)

Chaturvedi Makhanlal (म‌ाखनलाल तुर्वेदी)

             It is a beautiful coincidence that this great poet was also born on 4th of April in 1889. Also called Panditji, he was an Indian poet, writer, essayist, playwright and a journalist who is particularly remembered for his participation in India’s national struggle for independence. He has created more masterpieces than anyone can remember but we can cherish a few for sure 🙂


पुष्प
की अभिलाषा 

चाह  नहीं  मैं  सुरबाला  के,

गहनों  में  गूँथा  जाऊँ,

चाह  नहीं  प्रेमी-माला  में,
बिंध  प्यारी  को  ललचाऊँ,

चाह  नहीं, सम्राटों  के  शव,
पर,  हे  हरि, डाला  जाऊँ

चाह  नहीं, देवों  के  शिर  पर,
चढ़ूँ  भाग्य  पर  इठलाऊँ!

मुझे  तोड़  लेना  वनमाली!
उस  पथ  पर  देना  तुम  फेंक,

मातृभूमि  पर  शीश  चढ़ाने
जिस  पथ  जाएँ  वीर  अनेक।

***

मैं  अपने  से  डरती  हूँ  सखि !

पल  पर  पल  चढ़ते  जाते  हैं,
पद-आहट  बिन, रो!  चुपचाप
बिना  बुलाये  आते  हैं  दिन,
मास, वरस  ये  अपने-आप;
लोग  कहें  चढ़  चली  उमर  में
पर  मैं  नित्य  उतरती  हूँ  सखि !
मैं  अपने  से  डरती  हूँ  सखि !

***

Screen shot 2012-07-16 at 9.52.12 PM

Cento:

Meaning– Poetry made up of lines borrowed from a combination of established authors, usually resulting in a change in meaning and a humorous effect. Example:-

गुरु  गोविंद  दौऊ  खड़े , काके  लागूँ  पाए ; (Kabira)

पर आज  कल  के  दौर  में , They  just  say…’Hi’ || (doc2poet)

***

महकते जज़्बात…(5)


Indian Bloggers

DSCF0482

इस  दिल  से  उठती  ख़ुश्बू  के  कुछ  और  कतरे  आपकी  नज़र  करता  हूँ…

भाग ५


वो   कहते   हैं   तू   ख़याल   है   बस ,

इस   पागल   दिल   का   फ़ितूर   है   तू ;

पर   ज़िंदा   हूँ   मैं…खुद   सुबूत   है   ये ,

के   शायद   कहीं   ज़रूर   है   तू ||

♥ ♥ ♥

तेरे   ख़यालों   में   ऐसा   डूबा,

जैसे   वर्षा   घनघोर   हुई ;

जाने   कब   बीती   रात ,

और   जाने   कब   भोर   हुई ||

♥ ♥ ♥

ख्वाबों   के   इस   वीराने   में ,  

 क्या   खूब   हरियाली   छाई   है ;

के   ढूंड   रहे   थे   हम   अल्फाज़ों   को ,  

और…खुद   ग़ज़ल   ही   चली   आई   है ||

♥ ♥ ♥

Love  is  in  the  air…Its  February…

महकते जज़्बात…(4)

DSCF0482

इस दिल से उठती ख़ुश्बू के कुछ और कतरे आपकी नज़र करता हूँ…

भाग ४

वो कहते हैं सपनों में जीना अच्छी बात नहीं,

फ़िर क्यूँ तुम इन ख्वाबों से निकल आती नहीं ;

चाहत नहीं क्या  ए हमनशीं हमसे,

या बस मेरी तरह जताती नहीं |

♥ ♥ ♥

इन हाथों की लकीरों में तू है,

या तुझसे ये लकीरें,

तू पास नहीं…एहसास है बस,

और धुंधली तस्वीरें |

♥ ♥ ♥

फिर मिलेंगे…

महकते जज़्बात…(3)

DSCF0482

इस दिल से उठती ख़ुश्बू के कुछ और कतरे आपकी नज़र करता हूँ…

भाग ३

ख़्वाब में मिलीं कल नज़रें उनसे,

जाने दो पल में क्या कह गयीं ;

हम अंदाज़-ए-बयाँ पर ही मर मिटे,

और बात अधूरी रह गयी ||

♥ ♥ ♥

ये तू नहीं…तेरी याद है बस,

अब कौन इस दिल को समझाए ;

तेरी जूसतजू ने शायर किया’

एक झलक जाने क्या कर जाए ||

♥ ♥ ♥

बड़ी उम्मीद लिए बैठे थे,

के उनकी आँखों से कोई इशारा तो होता,

तोड़ देते हर रस्म इस ज़माने की,

बस एक बार मुहब्बत से हमें पुकारा तो होता ||

♥ ♥ ♥

फिर मिलेंगे…