#BlogchatterA2Z : H

You can see humor in anything and everything, if you have an eye for it. There’s humor even in tragedies. And love is the biggest tragedy of them all. It is so simple yet no one can easily understand. It lies in the small things that we do for each other and not in fancy flowers an gifts. Love is sublime, pure and fucks all.

Powered by #BlogchatterA2Z for Apr’21 and hosted by https://www.theblogchatter.com/

माँ : #Mother’sDay


Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

Mothers never leave your side. If you can feel the warmth of their love, you are on the right path. Happy mothers day.

doc2poet

m
Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

PS: This one is the closest to my heart. If you have ever liked any of my poem, you will love this one. And if you are here for the first time, the archive is on the right…

M                   अपने आँसुओं को जग की आँखों से छुपाकर पी जाना मैने बहुत पहले ही सीख लिया था | लेकिन कुछ बातें कभी नहीं छुपाई जा सकती | मेरे जीवन का सबसे दुखद लम्हा वह था जब उनका साया मेरे सर से रूठ गया | आज भी रह-रह कर वही पल अक्सर मेरी कविताओं में लौट आता है…

के  जितना था मुझसे दुलार,

करती थी जितना मुझसे प्यार;

मुझे एक बार और बाहों में भरने को,

वो  दरिया-ए-आग  मे  भी  उतरती;

होता  गर  बस  मे  उसके,

तो  चन्द  साँसें  और  ज़रूर  भरती;

अपने  लिए  न  सही,

मेरे  लिए  तो  ज़रूर  करती |

वो …

View original post 143 more words

राबता : #BlogchatterA2Z

r
Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

R

              ये पंक्तियाँ मैंने अपनी पहली और आख़री प्रेमिका और संजोग से मेरी धर्म पत्नी की शान में कुछ वर्ष पहले लिखी थी | मुझे खुशी है कि ये आज भी उतनी ही रूमानी हैं जितनी उस समय थीं |

ख़यालों   ने   उनके   सताया   है   इस   क़दर,

के  राबता  हो  उनसे, तो  पूछेंगे  ज़रूर,

के तराशा  है  तुम्हें, खुद  उस  ख़ुदा  ने,

या  हो  तुम  परी, या  कोई  हूर |

है  तुमसे  ही  धड़कन  इस  दिल  की,

और  तुम्ही  से  इन  आँखों  का  नूर,

के  मर  ही  मिटा  तुमपर,

तो  इस  दिल  का  क्या  क़सूर |

इस  दिल  ने  ही  दिखाई  अंधेरों  में,

नज़रों  को  राहें  तमाम  हैं,

माना  हुई  है  इससे  ख़ता,

पर  क़ुबूल  हमें  भी  ये  इल्ज़ाम  है |

न  जाने  हुआ  ये  कैसे,

के  एक   ही   झलक  में  दिल-ओ-जान  गवाँ  बैठे,

अजनबी  हुए  ख़ुद  से,  और  उन्हें  भगवान  बना  बैठे |

जादू  चला कुछ  इस  तरह,

के  हम रहे  नहीं  हम,

मिल  जाए  पर उनका   साथ  अगर,

तो ख़ुद को खोने का भी नहीं ग़म |

नज़रों   में  उनकी  छलकती  मेरी  तस्वीर  सा  नशा,

किसी   पैमाने   में  कहाँ,

के  मुहब्बत  की  इस  बेखुदी  सा   मज़ा,

होश  में  आने  में  कहाँ |

बयाँ   कर  पाना   मुम्किन  नहीं,

के  बीते  कैसे  बरसों,  इन  नज़रों  की  तलाश  में,

ज़िंदा  होने  के  इल्ज़ाम  तले,

चल थी  रही  साँसें, ज़िंदगी  की  आस  में |

के  लौ  सी   तपती  धूप  में,

राहत शाम  में  हमने  पाई  है,

गुज़र  गये  झुलस्ते  मंज़र,

के  जीवन  में  शब  लौट  आई  है |

सजदा  करूँ  मैं  पल-पल  उनका,

जो  शख़्सियत  ही  ख़ुदाया  है,

के   याकता  वो  हीर,

जिसने  इस  दिल  को  सजाया  है,

हर पल को महकाया है ||

♥ ♥ ♥                                  doc2poet

ये इस कविता का अंत नहीं, बल्कि इस प्रेम कहानी का आगाज़ है…

अगर आपको मेरी कविताएँ पसन्द आयें तो मेरी पुस्तक “मन-मन्थन : एक काव्य संग्रह” ज़रूर पढ़ें| मुझे आपके प्यार का इन्तेज़ार रहेगा |

1qws (2)
Buy online

माँ : BlogchatterA2Z

m
Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

PS: This one is the closest to my heart. If you have ever liked any of my poem, you will love this one. And if you are here for the first time, the archive is on the right…

M                   अपने आँसुओं को जग की आँखों से छुपाकर पी जाना मैने बहुत पहले ही सीख लिया था | लेकिन कुछ बातें कभी नहीं छुपाई जा सकती | मेरे जीवन का सबसे दुखद लम्हा वह था जब उनका साया मेरे सर से रूठ गया | आज भी रह-रह कर वही पल अक्सर मेरी कविताओं में लौट आता है…

के  जितना था मुझसे दुलार,

करती थी जितना मुझसे प्यार;

मुझे एक बार और बाहों में भरने को,

वो  दरिया-ए-आग  मे  भी  उतरती;

होता  गर  बस  मे  उसके,

तो  चन्द  साँसें  और  ज़रूर  भरती;

अपने  लिए  न  सही,

मेरे  लिए  तो  ज़रूर  करती |

वो  रूठना, वो  मनाना ,

वो  डांट कर फिर प्यार जताना;

ऐसे  पल-दो-और-पलों  के  लिए,

वो  कुछ  भी  कर  गुज़रती;

होता  गर  बस  मे  उसके,

तो  स्वयं  काल  के  प्राण  भी  हरती;

अपने  लिए  न  सही,

मेरे  लिए  तो  ज़रूर  करती|

पर  भाग्य  की  थी  कुछ  और  ही  रज़ा,

मेरे  रंगों  मे  जैसे  कालिख  ही  भर  दी;

के  ग़म  तो  उसने  थोक  ही  दिए,

पर  ममता  केवल  फुटकर   दी;

होता  गर  बस  मे  उसके,

तो  समय  की  रेत  से  द्वंद  भी  वो  करती;

अपने  लिए  न  सही,

मेरे  लिए  तो  ज़रूर  करती,

मेरे  लिए  तो  ज़रूर  करती||

♥ ♥ ♥                                     doc2poet

अगर आपको मेरी कविताएँ पसन्द आयें तो मेरी पुस्तक “मन-मन्थन : एक काव्य संग्रह” ज़रूर पढ़ें| मुझे आपके प्यार का इन्तेज़ार रहेगा |

1qws (2)
Buy online