नव वर्ष: #NotMyResolution

theodysseyonline.com

We make resolutions, let them wither and eventually they die…

This year I have made some promises,

But I will not let them fade away this time.

I hope they survive to see the next New Year celebrations with me…


संकल्प :

“Say No to Procrastination”


कुछ  करना  है  कुछ  पाना  है, पर  संकल्प  यही  बस  माना  है,

के  असफलता  की  ठोकर  को, मैं  हार  नहीं  बनने  दूँगा,

संकल्प  के  बढ़ते  कदमों  की, रफ़्तार  नहीं  थमने  दूँगा;

कुछ  दूर  हैं  तो  कुछ  पास  ही  हैं, पर  दृढ़  मेरा  विश्वास  भी  है,

के  ख्वाबों  की  इस  नैया  की, पतवार  नहीं  छिनने  दूँगा,

नव  वर्ष  में  जलती  ज्वाला  को, अंगार  नहीं  बनने  दूँगा;

कुछ  आशा  है  कुछ  वादे  हैं, कुछ  मेरे  अडिग  इरादे  हैं,

के  दिल  से  जुड़े  इन  धागों  को, टूटे  तार  नहीं  बनने  दूँगा,

होता होगा  हर  साल  यही, पर  इस  बार  नहीं होने दूँगा,

इस  बार  नहीं होने दूँगा…

***

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by BlogAdda. This week’s WOW prompt is – ‘It’s Not My Resolution’.

wowbadge

सबक: #Lessonslearntin2015

 

Books shelf

The Lesson I learnt in 2015

उदासियों  की  वजह  तो  बहुत  हैं  ज़िंदगी  में,

पर  बेवजह  ख़ुश  रहने  का  मज़ा  ही  कुछ  और  है…


Because no matter how hard we try,

we are gonna miss a few milestones

But we must carry on and keep pace with time…


सबक…

आहिस्ता  चल  ए  ज़िन्दगी , के  क़र्ज़  कई  चुकाना  बाकी  है,

कुछ  दर्द  मिटाना  बाकी  है, कुछ  फ़र्ज़  निभाना  बाकी  है,

रफ़्तार  में  तेरे  चलने  से, कुछ  रूठ  गये – कुछ  छूट  गये,

उन  रूठों  को  मनाना  बाकी  है, रोतों  को  हँसाना  बाकी  है,

इन  साँसों  पर  हक़  है  जिनका, उनको  समझाना  बाकी  है,

कुछ  हसरतें  अभी  अधूरी  हैं, कुछ  काम  और  अभी   ज़रूरी  हैं,

ख़्वाहिशें  कुछ  घुट  गयी  इस  दिल  में, उनको  दफ़नाना  बाकी  है,

नई  ख्वाहिशें  जगाना  बाकी  है, कुछ  ख़्वाब  सजाना  बाकी  है,

कुछ  आँसू  हैं  तो  कुछ  ग़म  भी  हैं, उनको  हँसी  तले  दबाना  बाकी  है,

कहीं  मरहम  लगाना  बाकी  है, कुछ  ज़ख़्म  छिपाना  बाकी  है,

तू  आगे  चल  मैं  आता  हूँ, के  अभी  कदम  बढ़ाना  बाकी  है ,

कुछ  और  सबक  हैं  तेरे  दामन  में, उनसे  मिल  जाना  बाकी  है,

के  आहिस्ता  चल  ए  ज़िंदगी, कुछ  क़र्ज़  चुकाना  बाकी  है,

के  क़र्ज़  चुकाना  बाकी  है…

***

This post is written for Indispire Edition 98: What are the 5 Lessons 2015 has taught you? #Lessonslearntin2015.